कोविड-19 और एक नई दुनिया की परिकल्पना

COVID -19 पर एक आभासी बैठक में जी 7 नेताओं के साथ बातचीत करते हुए जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे

कोई भी इस तथ्य से असहमत नहीं होगा कि कोविड-19 (COVID-19) के खत्म होने की महामारी के बाद ‘दुनिया कभी भी एक जैसी नहीं रहेगी’। इस समय पर कुछ भी अनुमान लगाना उचित नहीं होगा, क्योंकि किसी को नहीं पता कि यह कब तक चलेगा। दुनिया के 206 से अधिक देश एक ऐसे दुश्मन के साथ युद्ध लड़ रहे हैं जो आकार में सिर्फ कुछ नैनोमीटर है। सभी परमाणु हथियार, वायु रक्षा प्रणाली और अन्य सभी सैन्य उपकरण सिर्फ दिखावे में बदल गए हैं।

यह एक नई दुनिया है, जहां जानवर सड़कों पर हैं और इंसान घरों के अंदर बंद हैं। प्रकृति अपनी संपत्ति वापस अधिकार प्रपात करना चाहती है। यह मानवता को बता रही है, कि मनुष्य स्वामी नहीं, बल्कि किराएदार हैं। और कोई और है जो इस ब्रह्मांड को नियंत्रित कर रहा है।

चीन के गीले बाजार से शुरू हुई बीमारी अब दुनिया भर में कहर ढा रही है। लेकिन, वैश्वीकरण मॉडल के बारे में क्या? एक मॉडल जिसे उदार दुनिया अंत और हमेशा के लिए जीवंत मॉडल कहती थी।

अब जो दुनिया बहुत ज्यादा आपस में जुड़ी हुई थी, वह भूमंडलीकरण के समर्थकों के लिए कुछ कठिन सवाल खड़ी करती है। वह दुनिया जिसमें सब कुछ संभव था, भौगोलिक दूरियां कभी भी एक मुद्दा नहीं थीं। भूमंडलीकरण का उपयोग दुनिया की कठिनाइयों से निपटने के लिए किया गया था, प्राकृतिक आपदाओं से लेकर भू-राजनीतिक तक। लेकिन आज प्रत्येक देश इस खतरे सामना कर रहा है। जहां घातीय दर से मृत्यु दर बढ़ रही है।

इटली में विश्व स्तरीय स्वास्थ्य प्रणाली है। कोरोनावायरस ने इसे निचले स्तर पर धकेल दिया है: फोटो: एन बी सी

पृथ्वी पर महामारी हमेशा होती रही हैं और भविष्य में भी होती रहेगी। लेकिन इस बार, चीजें अलग हैं। यह विशाल है और लंबे समय तक चलने वाले प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष प्रभाव हैं। यह कहना गलत नहीं होगा, यह अपने आप में एक तीसरा विश्व युद्ध है। यहां, एक आम दुश्मन से निपटने के लिए प्रत्येक देश एक-दूसरे का समर्थन कर रहे हैं।

चीन का ‘वेट मार्केट’ जिसे विशेष रूप से एक ऐसी जगह के रूप में पहचाना जाता है जहां इस प्रकार के वायरस सामने आए हैं, चाहे वह सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (SARS), H1N1 या 2019-nCOV हो। चीन इस मुद्दे की गंभीरता के बारे में जानता था लेकिन उसने दुनिया को यह नहीं बताया। अब भी चीन में मृत्यु की संख्या के वास्तविक आंकड़े किसी को नहीं पता हैं। चीन ने व्हिसलब्लोअर डॉ० ली वेनलियानग को भी चुप करा दिया, जिन्होंने दुनिया को इस घातक वायरस के बारे में सतर्क किया था। लेकिन बाद में वह खुद इस बीमारी से मर गए।

डब्ल्यूएचओ प्रमुख का चित्रण उनकी आँखों पर चीनी झंडे के मुखौटे के साथ / फोटो: ट्विटर

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) जैसे संस्थान इस महामारी के बाद संदेह के घेरे में आ गए हैं। 15 जनवरी तक, डब्ल्यूएचओ वायरस के बारे में गलत सूचना फैला रहा था कि ‘मानव से मानव संचार के लिए कोई सबूत नहीं हैं’। ऐसा कैसे हो सकता है? इसके निदेशक डॉ० टेड्रोस अडहानोम वायरस से लड़ने के प्रयासों के लिए चीन की सराहना कर रहे थे। उनकी भूमिका सवालों के घेरे में है और इस बात की जांच होनी चाहिए कि सबकुछ जानते हुए भी वह वायरस के बारे में सच्चाई बताने से बाज नहीं आए। आगामी समय में, ऐसे संस्थानों पर भरोसा करना मुश्किल होगा, उनकी विश्वसनीयता पर सवाल उठाया भी जाना चाहिए।

आज, संयुक्त राज्य अमेरिका अपनी लापरवाही के सबसे बुरे परिणामों का सामना कर रहा है। राष्ट्रपति ट्रम्प ने खुद 100,000 से 200,000 की सीमा में मौत के अनुमानित आंकड़े दिए हैं और उनके अनुसार, यह एक संकेत होगा कि उनके प्रशासन ने बहुत अच्छा काम किया है। यह वही ट्रम्प प्रशासन है जिसने शुरुआत में घोषणा की थी कि यह वायरस उसके देश को प्रभावित करने वाला नहीं है। अब हर अमेरिकी सरकार के गैर जिम्मेदाराना रवैये को कोस रहा है।

अब अमेरिका के कई शहरों में स्थितियां गंभीर हो रही हैं, जहां स्वास्थ्य सुविधाएं चरमरा रही हैं। व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों (PPE) की कमी है। डॉक्टर और अन्य स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारी अपने इस्तीफे पर हस्ताक्षर कर रहे हैं। अमेरिका ने भले ही इस स्थिति की अपेक्षा नही की हो, लेकिन वह चीन के साथ एक दोषपूर्ण खेल में शामिल था। जहां चीन यह कह रहा था कि वायरस अमेरिका से आया था और वहीं दूसरी ओर अमेरिका ने उसे ‘वुहान वायरस’ के नाम से पुकारना शुरू कर दिया। अमेरिका लगातार दूसरे देशों को सलाह दे रहा था कि वायरस से कैसे लड़ा जाए लेकिन खुद ही इस संकट से सामना नही कर पाया।

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव होने को हैं और आगामी कुछ महीने ट्रम्प के भाग्य का फैसला हो जाएगा। क्या वह फिर से सत्ता में आएंगे या अपनी गलतियों के कारण इसे खो देंगे। लेकिन यह निश्चित है, दुनिया खुद को अमेरिकी केंद्रित दृष्टिकोण से स्थानांतरित कर लेगी। हालांकि, अमेरिका की प्रासंगिकता पूरी तरह से खत्म नही होगी। अमेरिका में बहुत से घरेलू परिवर्तन होंगे और वे निश्चित रूप से अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को भी प्रभावित करेंगे।

इटली के महापौरों ने महामारी से पहले इटालियंस को “एक चीनी को गले लगाने” की मुहीम के लिए प्रोत्साहित किया

इटली, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी और पूरा यूरोप जोर शोर से ‘चीनी को गले लगाओ’ (हग द चाइनीज) अभियान रहा था लेकिन वे अब अपने किए पर पछता रहे हैं। यूरोप की स्थिरता को बड़ा झटका लगा है। यूरोप को कई वर्षों तक चीन की ओर झुका हुआ देखा जा सकता है, विशेषकर वह अवधि जब चीन ने बेल्ट रोड इनिशिएटिव (BRI) की शुरुआत की थी। वास्तव में, इटली पहला G7 सदस्य था जो आधिकारिक तौर पर BRI में शामिल हुआ था।

ब्रेक्सिट ने भले ही पूर्ण होने के कगार पर हो, लेकिन इसकी कई प्रक्रियाएं अभी भी चल रही हैं। अब यूरोप को इस बारे में सोचना होगा, खासकर ब्रिटेन को। ब्रिटेन की हालत भी इतनी अच्छी नहीं है। इस महामारी को गंभीरता से नहीं लिया और अब हालात यह हैं की वहाँ के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन खुद इस वायरस से लड़ रहे हैं। ब्रिटेन को इस बीमारी को गंभीर मुद्दा घोषित करने में काफी देर हो गई। अपनी स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली को मजबूत करने के बजाय यह झुंड प्रतिरक्षा की अवधारणा पर काम कर रहा था।

कोरोनावायरस वायरस से दुनिया भर के ख़ाली पर्यटक स्थल – एइफेल टॉवर, फ्रांस

वैश्विक आतंकवाद जैसे कुछ बड़े मुद्दों पर चर्चा को रोक दिया गया है। हालांकि, अभी भी आतंकवाद की घटनाएं हो रही हैं, हाल ही में अफगानिस्तान में गुरुद्वारा पर बमबारी की गई। कुछ सरकारें हैं जिन्होंने कोरोना संकट को अपने निजी फायदे के लिए इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। हंग्री ने अपने संविधान में कई बदलाव किए हैं जैसे कि प्रधान मंत्री विक्टर ऑर्बन, अनिश्चित काल के लिए डिक्री द्वारा शासन कर सकते हैं । यह बहुत क्रूर पहलू हो सकता है। लेकिन एक चीज जो सकारात्मक हुई वह पर्यावरण के साथ है। जैसे-जैसे मनुष्य लॉकडाउन में हैं, वायु शुद्ध हो गई है। शहर, नदियाँ और महासागरों अधिक स्वच्छ हैं। प्रदूषण सामान्य स्तर पर आ गया है।

वैश्विक स्वास्थ्य चुनौती के साथ सभी देशों को आर्थिक चुनौती से भी सामना करना पड़ रहा है। भारत जैसे देशों के लिए, बड़े असंगठित श्रम क्षेत्र इस समस्या को और बढ़ाते हैं। प्रवास की चुनौती बहुत उच्च बिंदु है। भारत में एक कमजोर स्वास्थ्य प्रणाली है लेकिन कुछ कड़े कदम उठाए गए हैं, जैसे की 21 दिनों के लॉकडाउन ने भारत को दुनिया के अन्य हिस्सों की तुलना में मामलों की संख्या को कम करने में मदद की है। और इस लॉकडाउन को आगे भी बढ़ा दिया गया है। भारत को संरचनात्मक सुधार करने की आवश्यकता है और यह बात केवल भारत तक ही सीमित नहीं है बल्कि पूरे दक्षिण एशिया के मायने रखती है।

आने वाले समय में विश्व अर्थव्यवस्था को भी कड़ी टक्कर मिलेगी। दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को नकारात्मक वृद्धि को देखना होगा। 2008 की घटना इस समय की घटना के सामने कहीं नही ठहरती। ऐसे देश हैं जिनकी आय का प्रमुख स्रोत पर्यटन उद्योग पर निर्भर करता है, उनकी अर्थव्यवस्थाओं पर बड़ा प्रभाव पड़ रहा है। इसका प्रभाव इस समय ऑस्ट्रेलिया में देखा जा सकता है, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया इस समय मंदी के दौर में है और अब वह इसके लिए चीन की खुलकर आलोचना कर रहा है। महत्वपूर्ण कच्चे माल के आयात और निर्यात में व्यवधान और संभवत: मूल्य वृद्धि घरेलू उद्योगों पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगी।

कोविड-19 की प्रतिक्रिया पर विश्व के नेताओं के साथ बातचीत करते हुए भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी

देशों को ऊर्जा उत्पादन के नए रूपों के बारे में सोचना होगा। जब कच्चे तेल की खरीद की बात आती है तो वहाँ बहुत बड़ा परिवर्तन होगा। तेल की आपूर्ति बाधित हुई है। और किसी को नहीं पता, यह कब तक चलेगा। हरित ऊर्जा की ओर अधिक ध्यान देना होगा। सभी देशों को आत्मनिर्भर बनने की जरूरत है। अन्यथा, संकट के समय में, यह एक और लड़ाई होगी जिससे उन्हें कोरोना संकट के साथ ने ही लड़ना होगा।

यह अनुमान लगाया जाता है कि दुनिया में एक बड़ा परिवर्तन होगा। और यह होना भी चाहिए, क्योंकि नए परिवर्तन बेहतर और स्थिर सिस्टम बनाते हैं। और इन प्रणालियों को विभिन्न परिस्थितियों में परीक्षण करना होगा ताकि आने वाले खतरों को कम से कम किया जा सके। लेकिन सामाजिक संरचना इतनी नहीं बदलेगी। यहां तक ​​कि, यह और मजबूत हो जाएगी। यह और जुड़ी हुई होगी लेकिन यह जुड़ाव  डिजिटल होगा। कोई भी व्यक्ति आत्मनिर्भर नहीं है। प्रकृति ने हमें इस तरह से बनाया है कि जुड़ाव कभी गायब नहीं होंगे। वास्तव में, यह और गहरे होंगे। संसाधनों का बंटवारा होता रहेगा। दुनिया अधिक सक्रिय होगी। यह अधिक संवेदनशील होगी। देश अपनी सुरक्षा संरचनाओं को बदल देंगे। जैविक सुरक्षा एक प्रमुख मुद्दा होगा। अनिवार्य नियम लागू किए जाएंगे।

इस लेख का अंग्रेजी अनुवाद यहाँ उपलब्ध है

Shubham Singh

शुभम सिंह द कूटनीती में एक रिसर्च एनालिस्ट हैं। उनके शोध के क्षेत्र में भारत की विदेश नीति और निरस्त्रीकरण अध्ययन शामिल हैं। उनसे [email protected] पर संपर्क किया जा सकता है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *