ब्रेक्सिट – मे सरकार को झटका, EU सौदा संसद में 230 मतों से कुचल दिया गया

ब्रिटैन कि प्रधान मंत्री थेरेसा मे

ब्रिटिश सांसदों ने मंगलवार को प्रधानमंत्री थेरेसा मे के ब्रेक्सिट सौदे को कुचल दिया, जो राजनीतिक अराजकता की ओर इशारा करता रहा है, जो ब्रिटैन को यूरोपीय संघ से एक अव्यवस्थित रूप से बाहर निकाल सकता है या यहां तक ​​कि 2016 के फैसले को पलटने का निर्णय कर सकता है।

संसद द्वारा उसके सौदे के खिलाफ 432-202 वोट दिए जाने के बाद, आधुनिक ब्रिटिश इतिहास की सबसे बुरी हार, विपक्षी लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कॉर्बिन ने तुरंत मे की सरकार में अविश्वास मत के लिए आवाहन किया, जिसे बुधवार को 1900 GMT पर आयोजित किया जाना है।

100 से अधिक मे के अपने कंजर्वेटिव सांसदों – ब्रेक्सिट समर्थकों और यूरोपीय संघ की सदस्यता के समर्थकों – दोनों ने इस सौदे को विफल करने के लिए एकगुट में हो गए।

मे अपने फैसले पे अभी भी कायम है और लेबर पार्टी के आम राष्ट्रीय चुनाव को गति देने के भरसक प्रयासों की वजह से, संसद अभी भी प्रभावी रूप से गतिरोध में है, कोई वैकल्पिक प्रस्ताव नहीं है।

मे के प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा कि मे का सौदा अभी भी यूरोपीय संघ के साथ समझौते का आधार बन सकता है, लेकिन विरोधियों ने उसपे असहमति जताई है।

ब्रेक्सिट कंजर्वेटिव समर्थक जो उसके सौदे के सबसे कट्टर विरोधी थे, उन्होंने भी कहा कि वे उनका समर्थन करेंगे।

यूरोपीय संघ ने कहा कि ब्रेक्सिट सौदा एक व्यवस्थित वापसी सुनिश्चित करने का सबसे अच्छा और एकमात्र तरीका रहा।

“यदि ये सौदा असंभव है, और कोई भी सौदा नहीं चाहता है, तो आखिरकार यह कहने की हिम्मत कौन जुटेगा कि एकमात्र सकारात्मक समाधान क्या है?” उन्होंने ट्वीट किया।

मे ने ब्रेक्सिट समर्थक सांसदों से कहा था कि अगर उनकी योजना को खारिज कर दिया गया, तो यह अधिक संभावना थी कि ब्रिटेन यूरोपीय संघ को बिल्कुल भी नहीं छोड़ेगा, क्योंकि यह बिना सौदे के छोड़ देगा।

ब्रेक्सिट के कई विरोधियों को उम्मीद है कि मे की हार के कारण यूरोपीय संघ की सदस्यता पर एक और जनमत संग्रह होगा, हालांकि ब्रेक्सिट समर्थको का कहना है कि ब्रेक्सिट के लिए मतदान करने वाले 17.4 मिलियन की इच्छा को नाकाम कर सकते हैं।

ये लेख द कूटनीति समूह के द्वारा बीबीसी कि खबर को आधार मान कर लिखा गया है

इस लेख में व्यक्त किए गए विचार और राय लेखक के हैं और जरूरी नहीं कि द कूटनीति टीम के विचारों को प्रतिबिंबित करें

द कूटनीति समूह

द कूटनीति अंतर्राष्ट्रीय संबंधों और कूटनीति पर भारत का एक बहुभाषी प्रकाशन है | हिंदी के अलावा हमारा प्रकाशन अंग्रेजी और स्पेनिश भाषा में है|

You may also like...

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *