चाबहार समझौते के संचालन के लिए भारत, अफगानिस्तान और ईरान के बीच अनुवर्ती समिति की पहली बैठक

चाबहार बंदरगाह, ईरान \ फोटो: विकिपीडिया

भारत, अफगानिस्तान और ईरान के बीच त्रिपक्षीय चाबहार समझौते के कार्यान्वयन के लिए अनुवर्ती समिति की पहली बैठक 24 दिसंबर, 2018 को ईरान के बंदरगाह शहर चाबहार में आयोजित की गई थी। यह बैठक संयुक्त सचिव / महानिदेशक के स्तर पर थी। सुरक्षा एवं व्यपार की दृष्टि से चाबहार को विशेषज्ञो द्वारा महत्वपूर्ण बताया जाता रहा है

इस अवसर पर, इंडिया पोर्ट्स ग्लोबल लिमिटेड कंपनी ने अपना कार्यालय चाबहार के शहीद बेहस्ती बंदरगाह पर खोलकर उसका परिचालन किया।

चाबहार पोर्ट के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय पारगमन और परिवहन के लिए त्रिपक्षीय पारगमन समझौते के पूर्ण परिचालन पर तीन पक्षों के बीच सकारात्मक और रचनात्मक चर्चा हुई। तीनो देशों के बीच व्यापार और पारगमन गलियारों के लिए मार्गों पर सहमति हुयी जो की भारतीय विदेश नीति के सक्रिय नज़रिये को प्रतिबिंबित करता है ।

भारत, ईरान एवं अफ़ग़ानिस्तान के प्रतिनिधि/ फोटो: IRNA

इस बैठक में पारगमन, सड़कों, सीमा-शुल्क और कांसुलर मामलों पे जल्द से जल्द प्रोटोकॉल को अंतिम रूप देने पर सहमति हुई। टीआईआर कन्वेंशन प्रावधानों का उपयोग कर चाबहार में कार्गो संचालन की भी अनुमति देने पर सहमति हुई।

26 फरवरी 2019 को चाबहार की क्षमता को बढ़ावा देने और लोकप्रिय बनाने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा, मार्ग को आकर्षक बनाने के सुझावों के निर्धारण के लिए एक अध्ययन शुरू किया जाएगा, लॉजिस्टिक लागत में कमी होगी और चाबहार समझौते के सुचारू संचालन के लिए मार्ग प्रशस्त होगा। ।

अगली समन्वय समिति की बैठक, दूसरी समन्वय परिषद द्वारा सचिवों / उप मंत्रियों के स्तर की बैठक, 2019 में भारत में आयोजित की जाएगी

स्रोत: भारतीय विदेश मंत्रालय

इस लेख में व्यक्त किए गए विचार और राय लेखक के हैं और जरूरी नहीं कि द कूटनीति टीम के विचारों को प्रतिबिंबित करें

द कूटनीति समूह

द कूटनीति अंतर्राष्ट्रीय संबंधों और कूटनीति पर भारत का एक बहुभाषी प्रकाशन है | हिंदी के अलावा हमारा प्रकाशन अंग्रेजी और स्पेनिश भाषा में है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *